मुहूर्त ट्रेडिंग का समय

मुहूर्त ट्रेडिंग का समय
Dhanteras 2022: सिर्फ 1 रुपये में मिल रहा है सोना, फटाफट जानें कहां से खरीद सकते हैं आप

मुहूर्त ट्रेडिंग क्या है? Diwali Muhurat Trading ka Time

कई नए व्यापारी मुहूर्त ट्रेडिंग इवेंट को लेकर उत्सुक हैं। मुहूर्त ट्रेडिंग लक्ष्मी पूजन के अवसर पर भारतीय स्टॉक एक्सचेंज में आयोजित एक विशेष व्यापारिक कार्यक्रम है।

यह एक विशेष ट्रेडिंग इवेंट है जहां शाम को बाजार सिर्फ 1 घंटे के लिए ट्रेडिंग के लिए खुलते हैं। आज के लेख में हम मुहूर्त ट्रेडिंग के बारे में विस्तार से चर्चा करने जा रहे हैं और मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन आप क्या कर सकते हैं।

मुहूर्त ट्रेडिंग के बारे में सब कुछ-

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि दिवाली रोशनी का त्योहार है, जो अंधेरे पर प्रकाश की जीत और बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। शुभ अवसर के दौरान, लोग आम तौर पर स्टॉक, म्यूचुअल फंड और अन्य विभिन्न संपत्तियों में निवेश करते हैं क्योंकि लक्ष्मी पूजन को आपके पैसे का निवेश करने मुहूर्त ट्रेडिंग का समय का सबसे अच्छा समय माना जाता है, और इस कारण से, शाम को बाजार खुला रहता है।

साथ ही, कुछ मान्यताओं के अनुसार, इस अंतराल के दौरान निवेश या व्यापार करने वाले लोगों के पास धन बनाने का अच्छा मौका होता है। यह अनोखा आयोजन केवल भारतीय शेयर बाजार में होता है। हर साल स्टॉक एक्सचेंजों द्वारा मुहूर्त ट्रेडिंग शेड्यूल की घोषणा की जाती है।

मुहूर्त ट्रेडिंग (Muhurat Trading) Diwali Treding

मुहूर्त ट्रेडिंग के अवसर पर नया निवेश–

मुहूर्त ट्रेडिंग को आमतौर पर विभिन्न संपत्तियों में निवेश करने का एक अच्छा समय माना जाता है। इसलिए अगर आप शेयर बाजार में अपना पैसा लगाने की सोच रहे हैं तो मुहूर्त ट्रेडिंग के अलावा और कोई अच्छा आयोजन नहीं होगा। आम तौर पर मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन बाजार में तेजी रहती है, जो समृद्धि और धन का संकेत देता है।

दिवाली धन और समृद्धि लाने के लिए मनाई जाती है, इसलिए आम तौर पर यह उन लोगों के लिए एक अच्छा समय होता है जो पहली बार बाजार में निवेश कर रहे हैं। आप ऐसे ब्लू चिप स्टॉक की तलाश कर सकते हैं जो निफ्टी 50 का हिस्सा हैं और अगर आप पहली बार शेयर बाजार में अपना पैसा निवेश करने जा रहे हैं तो मुहूर्त ट्रेडिंग में उनमें निवेश करें।

निवेशकों को किसी भी शेयर में निवेश करने से पहले कंपनी के फंडामेंटल का अध्ययन करना चाहिए।

मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान व्यापारियों को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए—

मुहूर्त ट्रेडिंग के अवसर पर आम तौर पर बाजार अस्थिर होते हैं क्योंकि ट्रेडिंग के लिए केवल एक घंटे का समय होता है, और मुहूर्त ट्रेडिंग सत्र के अंत में सभी ओपन पोजीशन एक्सचेंज द्वारा निर्धारित निपटान दायित्वों में परिणत होंगे।

लक्ष्मी पूजा के अवसर पर बाजार में अवकाश रहेगा और शाम के समय बाजार केवल एक घंटे के लिए खुलेंगे। मुहूर्त ट्रेडिंग के दौरान सभी इक्विटी और डेरिवेटिव सेगमेंट को ट्रेडिंग के लिए खुला रखा जाएगा।

यह सलाह दी जाती है कि व्यापारियों को अपने सिस्टम का सख्ती से पालन करना चाहिए क्योंकि एक अस्थिर व्यापार सत्र की उच्च संभावना है। मुहूर्त ट्रेडिंग सत्र के दौरान नए व्यापारी पीछे की सीट ले सकते हैं क्योंकि यह अक्सर उच्च अस्थिरता के कारण व्यापार करने के लिए कठिन बाजारों में से एक होता है।

इक्विटी या इक्विटी डेरिवेटिव में ट्रेडिंग करते समय, कृपया सुनिश्चित करें कि उस विशेष स्टॉक में पर्याप्त मात्रा है ताकि आप बिना किसी परेशानी के अपनी स्थिति को स्क्वायर ऑफ कर सकें। साथ ही कुछ शेयरों में लिक्विडिटी कम होने की संभावना ज्यादा होती है, इसलिए कोशिश करें कि उन शेयरों में ट्रेडिंग करने से बचें।

Muhurat Trading Diwali Session 2022: जानें मुहूर्त ट्रेडिंग की टाइमिंग, निवेशक क्यों मानते हैं इसे बेहद शुभ?

Muhurat Trading Diwali Session 2022 Date Time: मुहूर्त ट्रेडिंग के लिए सिर्फ 1 घंटे के लिए बाजार में 'शुभ' के लिए ट्रेडिंग होती है. इस खास वक्त पर छोटा सा निवेश करके बाजार की परंपरा को निभाने के साथ पैसा कमाने का भी मौका मिलता है.

24 अक्टूबर, 2022 को देशभर में दीपों का उत्सव दिवाली (Diwali 2022) का त्योहार मनाया जाएगा. दिवाली का त्योहार शेयर बाजार और उसके निवेशकों के लिए बेहद खास रहता है. शेयर बाजार तो वैसे दिवाली के चलते बंद रहता है. लेकिन दिवाली की शाम देवी लक्ष्मी की पूजा के बाद बाजार में दिवाली पर मुहूर्त ट्रेडिंग होती है. आइए आपको विस्तार से बताते हैं क्या होता मुहूर्त ट्रेडिंग उसकी टाइमिंग मुहूर्त ट्रेडिंग का समय और क्यों इसे बेहद शुभ माना जाता है.

पढ़ें :- Gold Price: सोने की कीमतों में आई गिरावट, चांदी भी हुई सस्ती,पढ़ें

मुहूर्त ट्रेडिंग क्या होती है?

Diwali Muhurat Trading 2022 date, timing: कुछ ही देर में खुलने वाला है शेयर बाजार, खरीदारी के लिए रहें तैयार, पूरे साल होगी बंपर कमाई!

Updated Oct 24, 2022 | 05:27 PM IST

Diwali Muhurat Trading 2022 date, timing: कुछ ही देर में खुलने वाला है शेयर बाजार, खरीदारी के लिए रहें तैयार, पूरे साल होगी बंपर कमाई!

share market

Diwali Muhurat Trading: इस 1 घंटे में खरीदा कोई भी शेयर, तो पूरे साल होगी धमाकेदार कमाई!

  • मुहूर्त ट्रेडिंग शेयरों में निवेश शुरू का अच्छा समय हो सकता है।
  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में यह परंपरा साल 1957 में शुरू हुई थी।
  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में इसकी शुरुआत 1992 में हुई थी।

Diwali Muhurat Trading: जानिए क्या होती है मुहूर्त ट्रेडिंग, क्यों इस दिन हर कोई चाहता है शेयर खरीदना!

Diwali Muhurat Trading: जानिए क्या होती है मुहूर्त ट्रेडिंग, क्यों इस दिन हर कोई चाहता है शेयर खरीदना!

दिवाली के दिन शाम को शेयर बाजार में मुहूर्त ट्रेडिंग होती है. तमाम निवेशक शगुन के लिए कुछ शेयर खरीदते हैं. अधिकतर निवेशक इस दिन शेयरों को खरीदकर उसे लंबे समय तक अपने पास रखते हैं.

शेयर बाजार (Share Market) के लिए ये हफ्ता बहुत ही शानदार साबित हुआ है. इस हफ्ते सेंसेक्स में 1387 अंकों की तेजी देखने को मिली है. हफ्ते के आखिरी दिन में सेंसेक्स 104 अंक चढ़ा है. त्योहारों के चलते इस महीने में शेयर बाजार कई दिन बंद रहेगा. इसी बीच कई लोगों के मन में ये सवाल भी है कि क्या दिवाली (Diwali) को शेयर बाजार बंद रहेगा (Share Market on Diwali) या फिर उस दिन मार्केट खुलेगा? आपको बता दें कि 24 अक्टूबर को दिवाली पर छुट्टी की वजह से सामान्य घंटों में तो शेयर बाजार बंद रहेगा, लेकिन शाम तो 1 घंटे की मुहूर्त ट्रेडिंग के लिए खुलेगा. आइए समझते हैं क्या है मुहूर्त ट्रेडिंग (Diwali Muhurat Trading) और क्यों की जाती है.

क्या है मुहूर्त ट्रेडिंग?

जैसा कि नाम से ही काफी हद तक समझ आ रहा है कि यह किसी तरह का मुहूर्त है. दरअसल, दिवाली पर लोग खरीदारी को शुभ मानते हैं. वहीं शेयर बाजार का तो पूरा कारोबार ही खरीद-फरोख्त का है. ऐसे में दिवाली पर लोग मुहूर्त ट्रेडिंग में सिर्फ शगुन के लिए खरीदारी करते हैं. वैसे तो बहुत से लोग इस दिन मुनाफा भी काटने की कोशिश करते हैं, लेकिन अधिकतर लोग मुहूर्त ट्रेडिंग को सिर्फ शगुन के लिए खरीददारी की तरह देखते हैं. शेयर बाजार में रेगुलर पैसे लगाने वाले निवेशक मुहूर्त ट्रेडिंग पर शगुन के तौर पर शेयर खरीद कर उन्हें अपने पोर्टफोलियो में रखते हैं. माना जाता है कि इस दौरान शेयर खरीदने वालों को साल भर लाभ मिलता है. मुहूर्त ट्रेडिंग दिवाली की शाम 6.15 से 7.15 तक यानी 1 घंटे होती है.

शेयर बाजार में दिवाली के दिन शाम को एक घंटे मुहूर्त ट्रेडिंग करने की परंपरा एक दो साल नहीं बल्कि करीब 5 दशक पुरानी है. इसकी शुरुआत बीएसई में 1957 में हुई थी, जबकि एनएसई में इसे 1992 से शुरू किया गया. मुहूर्त ट्रेडिंग को पूरी तरह से परंपरा से जोड़कर देखा जाता है.

कई निवेशक अगली पीढ़ी तक ले जाते हैं ये शेयर

बहुत सारे ऐसे निवेशक हैं जो मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन खरीदे गए शेयरों को अच्छा शगुन मानते हैं और उन्हें कभी नहीं बेचते. वह मानते हैं कि ये शेयर उनके पोर्टफोलियो में बरक्कत के लिए बहुत ही शुभ हैं. ऐसे में वह निवेशक तो मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन खरीदे हुए शेयरों को कभी नहीं बेचते मुहूर्त ट्रेडिंग का समय हैं. यहां तक कि कुछ तो उन शेयरों को अगली पीढ़ी तक ले जाते हैं.

पिछले मुहूर्त ट्रेडिंग का समय साल दिवाली 4 नवंबर 2021 को थी. उस दिन भी शाम को मुहूर्त ट्रेडिंग के लिए शेयर बाजार खुला था. पिछली बार मुहूर्त ट्रेडिंग पर शेयर बाजार गुलजार हो गया था. महज एक घंटे के सेशन में ही बीएसई का सेंसेक्स 60 हजार से भी ऊपर चाल गया था. मुहूर्त ट्रेडिंग में बाजार में तगड़ा उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है. पिछली बार बाजार खुला तो 436 अंकों की तेजी के साथ, लेकिन बाद में करेक्ट हुआ और अंत में 295 अंकों की तेजी के साथ 60,067 अंकों के स्तर पर बंद हुआ.

यह भी पढ़ें | चमड़ी की दलाली से मेखला होता था गुलजार

उल्लेखनीय है कि दिवाली के दिन शेयर बाजार में भी छुट्टी होती है। अन्य दिनों की तरह सुबह 9.15 बजे से शेयरों की खरीद बिक्री नहीं की जाती है। लेकिन शाम को मुहूर्त ट्रेडिंग के तहत 1 घंटे के लिए शेयरों का न केवल सौदा होता है, बल्कि मूहूर्त ट्रेडिंग सत्र के दौरान ही शेयर बाजार में की गई सभी लिवाली और बिकवाली का सेटलमेंट भी किया जाता है।

जानकारी के मुताबिक दिवाली के दिन कमोडिटी डेरिवेटिव्स सेगमेंट में भी मुहूर्त ट्रेडिंग का सत्र 6:15 बजे से शुरू होगा और शाम 7:15 बजे खत्म हो जाएगा। इसमें ट्रेड मॉडिफिकेशन शाम 7:25 बजे तक उपलब्ध होगा।इसी तरह करेंसी डेरिवेटिव सेगमेंट के लिए भी मुहूर्त ट्रेडिंग का समय शाम 6:15 बजे से 7:15 बजे तक का तय किया गया है। करंसी डेरिवेटिव्स और आईआरडी में भी ट्रेड मॉडिफिकेशन शाम 7:25 तक ही उपलब्ध रहेगा। क्रॉस करेंसी डेरिवेटिव्स में मुहूर्त ट्रेडिंग का समय भी ट्रेड मॉडिफिकेशन शाम 7:25 तक ही उपलब्ध होगा। ट्रेड कैंसिल करने का अनुरोध शाम 7:30 बजे तक किया जा सकेगा। सिक्योरिटीज लेंडिंग एंड बॉरोइंग (एसएलबी) सेगमेंट में भी दिवाली की मुहूर्त ट्रेडिंग शाम 6:15 बजे से शाम 7:15 बजे तक होगी। (एजेंसी, हि.स.)

रेटिंग: 4.90
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 614
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *