पेशेवर उपकरण

इक्विटी निवेश

इक्विटी निवेश
किसी जरूरी के काम में पैसों की जरूरत

इक्विटी म्यूचुअल फंड्स में कब तक पैसा रखना है सही, क्या है एक्सपर्ट्स की राय

नई दिल्ली. इक्विटी म्यूचुअल फंड्स आमतौर पर किसी अन्य निवेश विकल्प जैसे बैंक एफडी या गोल्ड से बेहतर माने जाते हैं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ये कम समय में आपको अच्छा रिटर्न देने की क्षमता रखते हैं. शेयर मार्केट पर आधारित होने के कारण बेशक इसमें रिटर्न हमेशा एक जैसा नहीं रहता है लेकिन अगर म्यूचुअल फंड्स का ट्रैक रिकॉर्ड देखें तो मिड से लेकर लॉन्ग टर्म तक इसमें किया गया निवेश नुकसान नहीं कराता है.

हालांकि, ऐसा भी नहीं हो सकता कि आप लगातार फंड्स में पैसा लगाए रहें. अगर आप मुनाफे के साथ पैसा निकालेंगे नहीं तो म्यूचुअल फंड्स में निवेश का कोई मतलब नहीं रह जाएगा. तो क्या इसका मतलब है कि आपको कभी भी म्यूचुअल फंड से बाहर निकल जाना चाहिए? जानकारों इक्विटी निवेश के अनुसार, ऐसी कुछ परिस्थतियां बनती हैं जब फंड से बाहर निकलने में ही आपकी भलाई होती है. आज हम जमा वेल्थ (निवेश सलाहकार फर्म) के सीईओ और संस्थापक राम कल्याण मेदुरी द्वारा सुझाई गईं ऐसी परिस्थितियों के बारे में बताएंगे जब आप अपना पैसा इक्विटी फंड्स से निकाल सकते हैं.

Mutual Fund Investment: आप 10 साल में इक्विटी निवेश कमा सकते हैं 10 करोड, जानिए कैसे करें निवेश की प्लानिंग ?

Mutual Fund Investment News: आधुनिक समय में लोगों के पास निवेश के कई विकल्प हैं, सरकारी योजनाओं से लेकर शेयर बाजार और म्यूचुअल फंड में निवेशक (stock market and mutual funds) पैसे लगा रहे हैं। शेयर बाजार और म्यूचुअल फंड में निवेश (Mutual Fund Investment) करने वालों को सरकारी योजनाओं और बैंक एफडी से बेहतर रिटर्न मिलता है। इसमें पैसा लगाना जोखिम भरा हो सकता है। हालांकि अगर आप जोखिम उठाने के लिए तैयार हैं तो लंबे समय के लिए पैसा लगाकर आप अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

अगर आपको 10 साल में 10 करोड़ रुपये की जरूरत है तो म्यूचुअल फंड (Mutual Fund Investment) आपके लिए अच्छा विकल्प हो सकता है। जानकारों का मानना ​​है कि इसमें SIP के जरिए सिस्टेमैटिक तरीके से निवेश किया जा सकता है. आइए जानते हैं कि हर महीने इसमें कितना निवेश करना चाहिए और कौन सा कॉर्पस चुनना चाहिए, ताकि आने वाले 10 साल में आपके पास 10 करोड़ की बड़ी रकम तैयार हो जाए।

ऊंचे रिटर्न के लिये इक्विटी फंड्स में करें निवेश, इन स्कीम ने कराई निवेशकों की बड़ी कमाई

ऊंचे रिटर्न के लिये इक्विटी फंड्स में करें निवेश, इन स्कीम ने कराई निवेशकों की बड़ी कमाई

बाजार में निवेश (Investment) का विकल्प तलाश रहे आम निवेशकों को अक्सर म्युचुअल फंड्स (Mutual Funds) में निवेश की सलाह दी जाती है. हालांकि फंड्स भी कई तरह के होते हैं जिसमें निवेश अलग अलग स्तर के जोखिम के साथ अलग अलग रिटर्न (Return) देते हैं. आमतौर पर बाजार में निवेश करने वाले हमेशा ऐसी स्कीम की तलाश करते हैं जो उन्हें ज्यादा से ज्यादा रिटर्न दें. म्युचुअल फंड्स में ये खासियत इक्विटी फंड्स के पास होती है. इक्विटी फंड्स में अन्य स्कीम के मुकाबले जोखिम ज्यादा होता है लेकिन इनका रिटर्न भी ज्यादा होता है.आज हम आपको बता रहे हैं ऐसे दो फंड्स जिनका रिटर्न काफी अच्छा रहा है. ये फंड्स मनी कंट्रोल के द्वारा चुने गए हैं. इन फंड्स की सबसे बड़ी खासियत ये है कि इनकी क्रिसिल रेटिंग 4 स्टार से ऊपर है. इनका प्रदर्शन एक साल के रिटर्न के आधार पर दिया गया है. ध्यान रखें यहा स्कीम का प्रदर्शन दिया गया है ये निवेश सलाह नहीं है.

क्या होते हैं इक्विटी फंड्स

इक्विटी फंड्स म्युचुअल फंड्स की वो स्कीम होती हैं जिसमें फंड्स का अधिकांश हिस्सा कंपनियों के स्टॉक्स में निवेश किया जाता है. इन्हें ग्रोथ फंड भी कहते हैं. ये फंड उन निवेशकों के लिये सही होते हैं तो जोखिम उठा कर लंबी अवधि में ऊंचे रिटर्न की उम्मीद करते हैं. शेयरों का चुनाव अलग अलग तरह से किया जाता है . फंड्स लार्ज कैप, स्मॉल कैप या मिड कैप या फिर मल्टी कैप के आधार पर स्टॉक्स इक्विटी निवेश इक्विटी निवेश का चुनाव कर सकते हैं इसके साथ ही अलग अलग सेक्टर या थीम के आधार पर भी स्टॉक्स का चुनाव किया जा सकता इक्विटी निवेश है. अगर आप भी जोखिम उठा कर लंबी अवधि में ऊंचा रिटर्न पाना चाहते हैं तो देखिये बीते एक साल में ऊंची रेटिंग वाले किन फंड्स ने निवेशकों को ऊंचा रिटर्न दिया है.

स्कीम का एक साल का रिटर्न 23 प्रतिशत रहा है. ये एक लार्ज कैप फंड है, जिसका फंड हाउस आईडीबीआई म्युचुअल फंड है. फंड साइज 554 करोड़ रुपये और एक्सपेंस रेश्यो 1.32 प्रतिशत है. स्कीम बीते 2 साल में 51 प्रतिशत का सालाना रिटर्न दे चुकी है. स्कीम में अगर किसी शख्स ने एक हजार रुपये की एसआईपी की होगी तो दो साल में 24 हजार रुपये का निवेश बढ़कर 32359 रुपये हो चुका होगा. स्कीम में 64 स्टॉक्स में निवेश किया इक्विटी निवेश गया है. इसमें से 69 प्रतिशत निवेश लार्ज कैप में है वहीं 10 प्रतिशत निवेश स्मॉलकैप में है. स्कीम में जिन स्टॉक्स में निवेश किया गया है उसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, इंफोसिस, एचडीएफसी और टीसीएस शामिल हैं.

Retirement Schemes: रिटायरमेंट के बाद भी मिलेंगे इक्विटी निवेश हर महीने 50 हजार रुपये, जानें आपके पास क्या हैं Investment ऑप्शन

पोस्ट रिटायरमेंट प्लान

पोस्ट रिटायरमेंट प्लान

gnttv.com

  • नई दिल्ली,
  • 29 नवंबर 2022,
  • (Updated 29 नवंबर 2022, 6:37 PM IST)

हर कोई अपने रिटायरमेंट इक्विटी निवेश इक्विटी निवेश को लेकर चिंतित रहता है

हर कोई अपने रिटायरमेंट को लेकर चिंतित रहता है. ऐसे में जरूरी है कि सही समय पर आप इसके बारे में सोचना शुरू कर दें. किसी भी व्यक्ति का पोस्ट रिटायरमेंट वाला समय और उसके कमाई के जीवन का समय बराबर होता है. इसलिए किसी व्यक्ति के लिए यह जरूरी है कि वह अपनी सर्विस की शुरुआत से ही रिटायरमेंट प्लान के बारे में सोचना शुरू कर दें. ताकि बिना ज्यादा तनाव लिए एक पोस्ट रिटायरमेंट अमाउंट इकठ्ठा हो सके. इसलिए, जितनी जल्दी आप रिटायरमेंट के लिए प्लान बनाकर इन्वेस्ट करना शुरू करेंगे, उतना ही बेहतर होगा.

मौजूदा समय की बात करें तो एक व्यक्ति को अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए प्रति माह कम से कम 50,000 रुपये की जरूरत होती है. हालांकि, अगर आप कुछ साल बाद ही रिटायर होने जा रहे हैं, इक्विटी निवेश तो हर साल से साथ मासिक आवश्यकता बढ़ती जाएगी. चलिए देखते हैं कि अलग-अलग इन्वेस्टमेंट प्लान के तहत वर्तमान में 50,000 रुपये प्रति माह प्राप्त करने के लिए आपको क्या करने की जरूरत होगी.

SIP Investment: बड़ी खबर! सिर्फ 10,000 रुपये का निवेश और प्राप्त करें 1 करोड़ रुपये का लाभ, जानिए पूरी योजना

Investment Tips: शेयर बाजार में तेजी है। बाजार में निवेशक बड़े पैमाने पर निवेश कर रहे हैं। वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुस्ती और फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बावजूद निवेशक म्यूचुअल फंड में निवेश को लेकर क्रेजी नजर आ रहे हैं. एसआईपी की मदद से म्यूचुअल फंड में निवेश लगातार बढ़ रहा है। AMFI के मुताबिक, अक्टूबर के महीने में रिकॉर्ड 13041 करोड़ रुपए का SIP किया गया। सितंबर में 12976 करोड़ का एसआईपी किया था। हालांकि, पिछले महीने इक्विटी फंड में निवेश का आंकड़ा घटा और कुल 9390 करोड़ रुपए का निवेश हुआ। सितंबर में इक्विटी फंड्स में कुल 14500 करोड़ रुपए का निवेश आया।

रेटिंग: 4.13
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 384
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *