मुद्रा जोड़े

व्यापार संतुलन

व्यापार संतुलन
इस साल अप्रैल से अक्टूबर के दौरान निर्यात 12.55 फीसदी बढ़कर 263.35 अरब डॉलर हो गया। आंकड़ों के मुताबिक, इसी अवधि में आयात 33.12 फीसदी बढ़कर 436.81 अरब डॉलर हो गया। विशेषज्ञों का कहना है कि वैश्विक मुद्रास्फीति, रूस-यूक्रेन युद्ध, चीन-ताइवान संकट और आपूर्ति में व्यवधान दुनिया भर में व्यापार संतुलन आर्थिक विकास को प्रभावित कर रहे हैं, जिससे मांग पर नकारात्मक असर हो रहा है। निर्यातक भारत की निर्यात वृद्धि पर फिलहाल अंगुली उठा रहे हैं और उन्हें उम्मीद है कि आने वाले महीनों में स्थिति में सुधार होगा।

Biggest iPhone manufacturing is being bulit near Bangalore says IT Minister Vaishnaw

अक्टूबर में 17 फीसद घटा भारत का निर्यात, व्यापार घाटा बढ़कर 26.91 अरब डॉलर

देश में व्यापार संतुलन की स्थिति सुधर नहीं रही है। अक्टूबर में भारत का 17 फीसद घट गया। निर्यात में गिरावट और आयात में वृद्धि से व्यापार घाटा बढ़ता है जिससे घरेलू मुद्रा के मूल्य पर दबाव पड़ता है। इसका असर नौकरियों पर भी पड़ रहा है।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। अक्टूबर में भारत का निर्यात 17% घटकर 29.78 अरब डॉलर रह गया है। अक्टूबर 2021 में 53.64 बिलियन डॉलर के मुकाबले अक्टूबर 2022 में आयात 56.69 बिलियन डॉलर हो गया। भारत का माल निर्यात पिछले महीने के 35.45 अरब डॉलर से गिरकर 29.78 अरब डॉलर हो गया, जबकि आयात इसी अवधि में 61.16 अरब डॉलर से घटकर 56.69 अरब डॉलर रह गया।

आंकड़ों के अनुसार, कुछ क्षेत्रों में व्यापारिक व्यापार संतुलन निर्यात में गिरावट के कारण अक्टूबर में देश का कुल आउटबाउंड शिपमेंट 6.65% की गिरावट के साथ 29.78 बिलियन डॉलर हो गया। व्यापारिक व्यापार घाटा पिछले महीने के 25.71 बिलियन डॉलर से बढ़कर 26.91 बिलियन डॉलर हो गया। वाणिज्य मंत्रालय ने मंगलवार को आयात और निर्यात के आंकड़े जारी किए।

व्यापार संतुलन

Please Enter a Question First

राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की जीवन रेखाएँvhwl6

व्यापार संतुलन किसे कहते हैं .

Solution : सरल शब्दों में कहा जाये तो व्यापार संतुलन (बैलेंस ऑफ ट्रेड) किसी देश के व्यापार का मूल्य होता है। यानी कुल निर्यात में से आयात को घटाने पर व्यापार संतुलन की गणना की जाती है। किसी देश के भुगतान संतुलन की गणना में व्यापार संतुलन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

अक्टूबर में 17 फीसद घटा भारत का निर्यात, व्यापार घाटा बढ़कर 26.91 अरब डॉलर

देश में व्यापार संतुलन की स्थिति सुधर नहीं रही है। अक्टूबर में भारत का 17 फीसद घट गया। निर्यात में गिरावट और आयात में वृद्धि से व्यापार घाटा बढ़ता है जिससे घरेलू मुद्रा के मूल्य पर दबाव पड़ता है। इसका असर नौकरियों पर भी पड़ रहा है।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। अक्टूबर में भारत का निर्यात 17% घटकर 29.78 अरब डॉलर रह गया है। अक्टूबर 2021 में 53.64 बिलियन डॉलर के मुकाबले अक्टूबर 2022 में आयात 56.69 बिलियन डॉलर हो गया। भारत का माल निर्यात पिछले महीने के 35.45 अरब डॉलर से गिरकर 29.78 अरब डॉलर हो गया, जबकि आयात इसी अवधि में 61.16 अरब डॉलर से घटकर 56.69 अरब डॉलर रह गया।

आंकड़ों के अनुसार, कुछ क्षेत्रों में व्यापारिक निर्यात में गिरावट के कारण अक्टूबर में देश का व्यापार संतुलन कुल आउटबाउंड शिपमेंट 6.65% की गिरावट के साथ 29.78 बिलियन डॉलर हो गया। व्यापारिक व्यापार घाटा पिछले महीने के 25.71 बिलियन डॉलर से बढ़कर 26.91 बिलियन डॉलर हो गया। वाणिज्य मंत्रालय ने मंगलवार को आयात और निर्यात के आंकड़े जारी किए।

रेटिंग: 4.87
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 674
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *