व्यापारिक मुद्रा जोड़े

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं

क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं
Photo:FILE क्रिप्टो एक्सचेंज

CRYPTOCURRENCY EXCHANGE ADS. तो इस IPL सीजन के दौरान दूरी बनाएंगे क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज, नहीं करेंगे विज्ञापन

CRYPTOCURRENCY EXCHANGE ADS: इस IPL सीजन के दौरान क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज दूरी बनाएंगे और विज्ञापन नहीं करने का फैसला लिया है. ASCI द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों के मुताबिक, विज्ञापन में "मुद्रा", "प्रतिभूतियां", "कस्टोडियन" और "डिपॉजिटरी" शब्दों का उपयोग नहीं क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं किया जाना चाहिए.

Updated: March 24, 2022 12:07 PM IST

crypto gst india, crypto gst rate, crypto gst 28, cryptocurrency and gst, bitcoin and gst, crypto tax and gst, gst on cryptocurrency,

Cryptocurrency News: GST council, however, might not decide on the rate of tax in this week (File Photo)

CRYPTOCURRENCY EXCHANGE ADS: भारत में शीर्ष क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों ने सामूहिक रूप से इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के दौरान विज्ञापन नहीं करने का फैसला किया है. पिछले साल, CoinDCX, WazirX और CoinSwitch Kuber के साथ-साथ अन्य ने आईपीएल और क्रिकेट टी -20 विश्व कप के लिए टीवी विज्ञापन पर सामूहिक रूप से लगभग 90 करोड़ रुपये खर्च किए थे.

Also Read:

Economic Times में प्रकाशित खबर के मुताबिक, क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX के चीफ एक्जीक्यूटिव निश्चल शेट्टी ने ट्विटर पर एक डायरेक्ट मैसेज के जरिए इसके बारे में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि सभी क्रिप्टो एक्सचेंजों ने आईपीएल में विज्ञापन नहीं देने का फैसला किया है.

उन्होंने कहा, “एक उद्योग के रूप में, हम यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रहे हैं कि आईपीएल विज्ञापनों में फिर से आने से पहले हमारे पास जिम्मेदार विज्ञापन के लिए सख्त दिशानिर्देश हों.”

शेट्टी ने कहा कि यह निर्णय ब्लॉकचैन और क्रिप्टो एसेट्स काउंसिल (BACC) द्वारा लिया गया था, जिसमें दो दर्जन से अधिक क्रिप्टो एक्सचेंज और क्रिप्टो-संबंधित कंपनियां सदस्य हैं. बीएसीसी इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया का हिस्सा है.

बता दें, क्रिप्टो एक्सचेंजों ने आईपीएल 2021 में टीवी विज्ञापनों पर 40 करोड़ रुपये खर्च किए थे.

भारत के सबसे आकर्षक खेल आयोजन के साथ-साथ क्रिकेट विश्व कप के दौरान इस विज्ञापन ब्लिट्जक्रेग से डिजिटल एक्सचेंजों की संख्या चार गुना तक बढ़ गई और क्रिप्टोकरेंसी निवेशकों के बीच बिटकॉइन और एथेरियम की तरह घरेलू पहचान बन गई.

हालांकि, विज्ञापन अभियान नियामकों और सरकारी एजेंसियों की जांच के दायरे में आए. सरकार वर्तमान में क्रिप्टोक्यूरेंसी बाजार को विनियमित करने के लिए एक विधेयक पर काम कर रही है.

मीडिया बायिंग एग्जिक्यूटिव्स के मुताबिक, डिज्नी स्टार नेटवर्क इस साल कुल ऐड रेवेन्यू में 5,000 करोड़ रुपये को पार कर सकता है, जिसमें 90% इन्वेंट्री पहले ही बिक चुकी है. आईपीएल दो साल के कोविड -19 अंतराल और दो नई टीमों – गुजरात टाइटन्स और लखनऊ सुपर जायंट्स के बाद भारत लौट रहा है.

पिछले महीने, एडवरटाइजिंग स्टैंडर्ड काउंसिल ऑफ इंडिया (ASCI), एक स्व-नियामक उद्योग निकाय, ने क्रिप्टो और अपूरणीय टोकन (NFT) उत्पादों सहित आभासी डिजिटल संपत्ति (VDA) और सेवाओं के विज्ञापन और प्रचार के क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं लिए दिशानिर्देश जारी किए.

ASCI ने कहा कि यह इस साल 1 अप्रैल को या उसके बाद जारी सभी वर्चुअल डिजिटल एसेट से संबंधित विज्ञापनों पर लागू होगा.

दिशानिर्देशों के अनुसार, वीडीए उत्पादों और एक्सचेंजों के विज्ञापनों में यह डिस्क्लेमर होना चाहिए कि क्रिप्टो उत्पाद और एनएफटी अनियमित हैं और अत्यधिक जोखिम भरे हो सकते हैं. इस तरह के लेनदेन से किसी भी नुकसान के लिए कोई नियामक सहारा नहीं हो सकता है.

डिस्क्लेमर एक औसत उपभोक्ता द्वारा प्रमुख और अस्वीकार्य होना चाहिए, जिसमें एक वॉयसओवर टेक्स्ट में क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं डिस्क्लेमर के साथ होना चाहिए जो कि सामान्य बोलने की गति से होना चाहिए और दिशानिर्देशों के अनुसार जल्दबाजी में नहीं होना चाहिए.

सोशल मीडिया पोस्ट में भी, इस तरह के डिस्क्लेमर को कैप्शन के साथ-साथ किसी भी तस्वीर या वीडियो अटैचमेंट दोनों में पोस्ट की शुरुआत में पहले ही ले जाया जाना चाहिए.

दिशानिर्देश वीडीए को अपने विज्ञापन में “मुद्रा”, “प्रतिभूतियां”, “कस्टोडियन” और “डिपॉजिटरी” शब्दों का उपयोग करने से भी रोकते हैं.

VDA उत्पादों के प्रत्येक विज्ञापन में स्पष्ट रूप से विज्ञापनदाता का नाम होना चाहिए और उनसे संपर्क करने का एक आसान तरीका प्रदान करना चाहिए.

किसी भी विज्ञापन में ऐसे बयान नहीं होंगे जो भविष्य में मुनाफे में वृद्धि का वादा करते हैं या गारंटी देते हैं, और विज्ञापनों में कुछ भी श्रेणी से जुड़े जोखिमों को कम नहीं करना चाहिए.

इसके अलावा, दिशानिर्देशों में कहा गया है कि वीडीए विज्ञापनों में दिखाई देने वाली मशहूर हस्तियों या प्रमुख हस्तियों को यह सुनिश्चित करने के लिए विशेष ध्यान रखना चाहिए कि उन्होंने विज्ञापनों में किए गए दावों के बारे में अपना उचित परिश्रम किया है ताकि उपभोक्ताओं को गुमराह न किया जा सके.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Crypto-crisis: क्रिप्टो एक्सचेंज FTX में फंड के संकट से कारोबार ठप, जानिए क्या करें निवेशक

क्रिप्टोकरेंसी के जानकारों का कहना है कि मौजूदा समय में निवेशकों के पास इंतजार करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। जब एक्सचेंज से निवेश निकालने की अनुमति होगी तभी निवेशक कुछ कर पाएंगे।

Alok Kumar

Edited By: Alok Kumar @alocksone
Published on: November 13, 2022 11:18 IST

क्रिप्टो एक्सचेंज- India TV Hindi News

Photo:FILE क्रिप्टो एक्सचेंज

Crypto-crisis: दुनिया की तीसरे सबसे बड़े क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज FTX में संकट गहराता जा रहा है। अब एफटीएक्स ने खातों तक 'गैरकानूनी पहुंच' और फंड का अभाव होने से निवेशकों के लिए कारोबार या निकासी का विकल्प बंद करने के साथ ही दिवाला प्रक्रिया से बचने की अर्जी लगा दी है। इस खबर के बाद इस एक्सचेंज से क्रिप्टोकरेंसी में पैसा लगाने वाले दुनियाभर के निवेशक परेशानी में है। क्रिप्टोकरेंसी के जानकारों का कहना है कि मौजूदा समय में निवेशकों के पास इंतजार करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। जब एक्सचेंज से निवेश निकालने की अनुमति होगी तभी निवेशक कुछ कर पाएंगे।

47.7 करोड़ डॉलर की बड़ी राशि गायब

अभी यह नहीं पता चल पाया है कि एफटीएक्स के खातों तक अनधिकृत पहुंच होने से कितनी राशि खतरे में आई है लेकिन विश्लेषक फर्म एलिप्टिक का मानना है कि एक्सचेंज से 47.7 करोड़ डॉलर की बड़ी राशि गायब हो चुकी है। इस बारे में सोशल मीडिया पर ऐसी चर्चाएं तेज हो गई हैं कि कहीं एफटीएक्स के खातों की हैकिंग तो नहीं हो गई थी। इसके अलावा किसी भीतरी शख्स के ही इस गड़बड़ी में शामिल होने की भी आशंका जताई जा रही है। महज दो हफ्ते पहले तक एफटीएक्स दुनिया का सबसे बड़ा क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज था।

सीईओ ने इस्तीफा दे दिया

एफटीएक्स के नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) जॉन रे तृतीय ने शनिवार को कहा कि एफटीएक्स अपने ग्राहकों को मंच पर क्रिप्टोकरेंसी के कारोबार या फंड निकासी की सुविधा बंद कर रहा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ग्राहकों की परिसंपत्तियों को सुरक्षित रखने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। कंपनी के वकील राएन मिलर ने कहा कि एफटीएक्स कानूनी एजेंसियों एवं नियामक संस्थाओं के साथ ही सहयोग कर रही है। लेकिन कुछ दिनों में ही इसके परिसंपत्ति आकार में भारी गिरावट आई और शुक्रवार को इसके संस्थापक एवं सीईओ सैम बैंकमैन-फ्राइड ने इस्तीफा दे दिया। इसके साथ ही एक्सचेंज ने दिवाला प्रक्रिया से बचने की अर्जी भी लगा दी है। इसने अपनी परिसंपत्तियों का मूल्य 10 अरब डॉलर से लेकर 50 अरब डॉलर तक लगाया है।

Crypto Crisis: एक और क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज ने ट्रांजैक्‍शन पर लगाई रोक, निवेशकों का पैसा फंसा

क्रिप्‍टोकरेंसी मार्केट में संकट मई 2022 में शुरू हुआ था.

क्रिप्‍टोकरेंसी मार्केट में संकट मई 2022 में शुरू हुआ था.

सिंगापुर, थाइलैंड, इंडोनेशिया और ऑस्‍ट्रेलिया में अपनी सेवाएं देने वाले क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज (crypto exchange) जिपमेक्‍स (Zipmex) ने अपने प्‍लेटफॉर्म पर लेनदेन स्‍थगित कर दिया है. कंपनी ने एक ट्वीट में ट्रांजेक्‍शन रोकने की जानकारी क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated : July 21, 2022, 17:54 IST

हाइलाइट्स

क्रिप्‍टोकरेंसी मार्केट में पिछले कुछ महीनों में भारी गिरावट आई है.
बिटकॉइन सहित सभी क्रिप्‍टो कॉइन मंदी की मार झेल रहे हैं.
मई 2022 में टेरा लूना में भारी गिरावट के साथ ही क्रिप्‍टोकरेंसी के बुरे दिन शुरू हुए थे.

नई दिल्‍ली. क्रिप्‍टोकरेंसी बाजार में पिछले कुछ महीनों से जार गिरावट अब क्रिप्‍टो निवेशकों और क्रिप्‍टो एक्‍सचेंजों पर भारी पड़ने लगी है. क्रिप्‍टो बाजार में छाई मंदी की मार से बेहाल अब एक और क्रिप्‍टो क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं एक्‍सचेंज ने अपने प्‍लेटफॉर्म पर क्रिप्‍टोकरेंसी के लेनदेन पर रोक लगा दी है. एक्‍सचेंज के इस कदम से क्रिप्‍टो निवेशक अपनी क्रिप्‍टोकरेंसी को विड्राल नहीं कर पा रहे हैं.

सिंगापुर, थाइलैंड, इंडोनेशिया और ऑस्‍ट्रेलिया में अपनी सेवाएं देने वाले क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज जिपमेक्‍स (Zipmex) ने अपने प्‍लेटफॉर्म पर लेनदेन स्‍थगित कर दिया है. कंपनी ने एक ट्वीट में ट्रांजैक्‍शन रोकने की जानकारी देते हुए बताया कि क्रिप्‍टो मार्केट में अस्थिरता और व्‍यापार भागीदारों के घोर वित्‍तीय संकट में घिर जाने के कारण जिपमेक्‍स ने विड्राल सस्‍पेंड करने का निर्णय लिया है.

मई से शुरू हुआ संकट
जेपमेक्‍स के थाइलैंड सीईओ अकलर्प यिमविलाई एक ऑनलाइन लाइवस्‍ट्रीम में कहा कि सिंगापुर बेस्‍ड कंपनी में समस्‍याएं बबैल फाइनेंस और सेल्सियस नेटवर्क जैसे स्‍थानीय सहयोगियों के सामने तरलता संकट पैदा होने के कारण पैदा हुई हैं. क्रिप्‍टोकरेंसी मार्केट में संकट मई 2022 में शुरू हुआ था. क्रिप्‍टोकॉइन टेरा लूना के बुरी तरह लुढ़कने के बाद क्रिप्‍टो बाजार में भारी मंदी आई और छोटे-बड़े सभी कॉइन इसकी चपेट में आ गए. क्रिप्‍टो मार्केट में भारी बिकवाली का असर क्रिप्‍टो एक्‍सचेंजों पर भी पड़ा.

पहले भी दो एक्‍सचेंज रोक चुके हैं लेनदेन
जेपमेक्‍स से पहले भी Celsius और Vauld नामक दो क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज अपने प्‍लेटफॉर्म पर पहले ही क्रिप्‍टो लेनदेन रोक चुके हैं. क्रिप्‍टोकरेंसी लेंडर फर्म सेल्सियस नेटवर्क (Celsius Network) ने यूजर अकाउंट्स से क्रिप्‍टो की निकासी और उन्‍हें दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर करने पर 12 जून को रोक लगा दी थी. पिछले साल ही सेल्सियस नेटवर्क ने $750 मिलियन की फंडिंग हासिल की थी. क्रिप्‍टो लेंडिंग की यह एक प्रमुख फर्म है. कंपनी कस्‍टमर्स से क्रिप्‍टो उधार लेती है और फिर उन्‍हें आगे फिर उधार देती है. जो ग्राहक कंपनी के पास अपनी क्रिप्‍टोकरेंसी रखते हैं, उन्‍हें कंपनी अच्‍छा रिटर्न देती है.

इसी तरह सिंगापुर स्थित मुख्यालय वाला क्रिप्टो एक्सचेंज और क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं भारतीय स्टार्टअप वाल्ड ( Vauld) ने 4 जुलाई 2022 को अपने प्लेटफॉर्म पर सभी प्रकार की जमा-निकासी के साथ ट्रेडिंग एक्टिविटी को रोक दिया था. वाल्ड ने कहा कि क्रिप्टो में भारी गिरावट और भारत में नियमों के कड़े होने से ट्रेडिंग वैल्यूम पर काफी असर पड़ा है. कंपनी के सामने वित्तीय मुश्किलें खड़ी हो गई हैं. लिहाजा इस वजह क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं से इस क्रिप्टो एक्सचेंज ने फिलहाल सभी गतिविधियां रोक दी हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

ग्लोबल क्रिप्टो एक्सचेंज Coinstore ने लॉन्च किया फ्यूचर्स क्रेडिट फीचर, यूजर को क्या फायदा?

ग्लोबल क्रिप्टो एक्सचेंज Coinstore ने लॉन्च किया फ्यूचर्स क्रेडिट फीचर, यूजर को क्या फायदा?

ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज,  Coinstore.com  ने आज फ्यूचर क्रेडिट फीचर लॉन्च करने की घोषणा की है. यह फीचर यूजर और इंवेस्टर को अपने फंड का उपयोग किए बिना अपनी क्रिप्टो होल्डिंग्स बढ़ाने में सक्षम बनाता है. जो निवेशक एक लंबी अवधि के लिए डिजिटल एसेट्स खरीदना और रखना पसंद करते हैं, वे बाजार की गतिविधियों को और अधिक भुनाने के लिए भविष्य की क्रेडिट फैसिलिटी का लाभ उठा सकते हैं. फ्यूचर्स आमतौर पर कमोडिटी ट्रेडिंग से जुड़े होते हैं, हालांकि, यह कई प्रकार की एसेट्स के लिए भी उपलब्ध है.

फ्यूचर्स क्रेडिट Coinstore.com उपयोगकर्ताओं के लिए एक डिजिटल फंड लोन रिवार्ड्स है, जो उपयोगकर्ताओं को Coinstore के स्थायी फ्यूचर्स ट्रेडिंग को समझने में मदद करता है. Coinstore का फ्यूचर्स क्रेडिट फीचर प्रत्येक योग्य रजिस्टर्ड यूजर को भाग लेने से लाभान्वित करने में सक्षम बनाता है. रजिस्टर्ड यूजर को ट्रेडिंग के अधिक अवसर प्रदान करने के लिए, Coinstore.com जमा किए गए प्रत्येक USDT के लिए क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं एक से बढ़कर एक फ्यूचर्स क्रेडिट की पेशकश कर रहा है. Coinstore.com के यूनिक कॉन्ट्रैक्ट फीचर का अनुभव करते हुए यूजर लाभ प्राप्त करने में सक्षम होंगे.

इस मौके पर Coinstore.com के को-फाउंडर जेनिफर लू, ने अधिक जानकारी देते हुए कहा, "हम दुनिया भर में अपने उपयोगकर्ताओं के लिए फ्यूचर क्रेडिट फीचर लॉन्च करने के लिए बहुत उत्साहित हैं. यह क्रिप्टो समुदाय के विश्वास को बढ़ावा देगा और एक डिजिटल फंड के रूप में क्रिप्टो इकोसिस्टम को बहुत आवश्यक लिक्विडिटी प्रदान करेगा. फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट्स का आविष्कार प्रोड्यूसर्स, कंज्यूमर्स और इंवेस्टर्स के जोखिम को कम करने के लिए किया गया था. हालांकि, उन प्रोडक्ट्स में ट्रेड या इंवेस्ट करने की सलाह दी जाती है जिनसे आप परिचित हैं और उनसे जुड़े जोखिमों को समझते हैं."

स्पॉट ट्रेडिंग के विपरीत जहां निवेशकों को लाभ होता है जब कीमत ऊपर की ओर बढ़ रही होती है, फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट्स और हमारे फ्यूचर्स क्रेडिट जैसे फीचर ट्रेडर्स को बड़ी मात्रा में बेसिक एसेट्स के निवेश की आवश्यकता के बिना क्रिप्टोकरेंसी के लिए अधिक जोखिम देती हैं. फ्यूचर्स क्रेडिट एसेट्स की कीमत में उतार-चढ़ाव की परवाह किए बिना उपयोगकर्ताओं को लाभ के अवसर प्रदान करता है. इंडेक्स फ्यूचर्स की पहली उपस्थिति भारत में वर्ष 2000 में हुई थी. इसके बाद, पर्सनल स्टॉक फ्यूचर्स कुछ साल बाद शुरू हुए. आपके ट्रांजेक्शन की मात्रा जितनी अधिक होगी, आपका लाभ मार्जिन उतना ही बड़ा होगा.

कंपनी का दावा है कि Coinstore.com पारदर्शी ट्रेडिंग अनुभव बनाने में विश्वास करता है. Coinstore.com ने यह भी दावा किया है कि दुनिया भर में इसके 180 कर्मचारी हैं, 175 देशों में 1.1 मिलियन से अधिक रजिस्टर्ड यूजर्स हैं.

(डिस्क्लेमर: किसी भी क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने से पहले अपने स्वयं के सलाहकारों से परामर्श करें. और जहां जरूरी हो, खुद से रिसर्च करें. इस जानकारी को फाइनेंशियल या इंवेस्टमेंट एडवाइज के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए. फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स की कोई भी सिफारिश किसी भी तरह से पर्सनलाइज्ड नहीं होती है.)

Cryptocurrency Update : दिवालिया हो गए एक्‍सचेंज तो क्रिप्‍टो निवेशकों के पैसों का क्‍या होगा? एक्‍सपर्ट से समझें

बिटक्‍वाइन में अपने शीर्ष से 50 फीसदी से भी ज्‍यादा गिरावट आ चुकी है.

बिटक्‍वाइन में अपने शीर्ष से 50 फीसदी से भी ज्‍यादा गिरावट आ चुकी है.

ग्‍लोबल मार्केट में जारी उठापटक की वजह से न सिर्फ शेयर बाजार बल्कि क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज भी बड़ी गिरावट झेल रहे हैं. कई क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज ने तो खुद को नुकसान से बचाने के लिए ट्रेडिंग भी बंद कर दी और निवेशकों को अपने प्‍लेटफॉर्म से पैसे निकालने या जमा करने पर रोक लगा दी. ऐसे में सवाल उठता है कि अगर एक्‍सचेंज दिवालिया हो गए तो निवेशकों का क्‍या होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated : July 24, 2022, 09:57 IST

हाइलाइट्स

जून के बाद से बाइनेंस, वॉल्‍ड, स्‍काईब्रिज कैपिटल जैसे क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज ने अपनी ट्रेडिंग रोक दी है.
क्रिप्‍टो एसेट किसी भी सरकार अथवा सरकारी एजेंसी द्वारा गारंटीड नहीं होता है.
एक्‍सचेंज के दिवालिया होने की स्थिति में निवेशकों को असुरक्षित कर्जदाता की श्रेणी में रखा जाएगा.

नई दिल्‍ली. क्रिप्‍टोकरेंसी मार्केट में बड़ी गिरावट को देखते हुए कुछ एक्‍सचेंज ने अपनी ट्रेडिंग को बंद कर रहे हैं. यह ट्रेंड जून से ज्‍यादा बढ़ गया है. ऐसे में सवाल उठता है कि अगर क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज दिवालिया हो जाएं तो निवेशकों के पैसों का क्‍या होगा?

दरअसल, मई में टेरा सिस्‍टर क्रिप्‍टो के धराशायी होने के बाद क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज किसी बड़ी गिरावट से बचने के लिए अपनी ट्रेडिंग रोक दे रहे हैं. ग्‍लोबल मार्केट पर दबाव की वजह से दुनियाभर के शेयर बाजार अभी गिरावट झेल रहे हैं, जिसका खामियाजा क्रिप्‍टोकरेंसी निवेशकों को भी भुगतना पड़ रहा. यही कारण है कि कई क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज अपने प्‍लेटफॉर्म पर निकासी और जमा क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं को रोक रहे हैं.

कुछ एक्‍सचेंज इस गिरावट और नुकसान की भरपाई के लिए दूसरे निवेशक तलाश रहे या फिर अपनी हिस्‍सेदारी बेच रहे हैं. इसके अलावा किसी अन्‍य फर्म या एक्‍सचेंज से ज्‍वाइंट वेंचर बनाने का भी विकल्‍प देख रहे हैं. ऐसे में एक्‍सपर्ट और निवेशकों के मन में यह सवाल जरूर उठता है कि अगर एक्‍सचेंज दिवालिया हो गए तो उनके पैसों का क्‍या होगा.

सामने आया मामला
अमेरिका के न्‍यूजर्सी स्थित क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज सेल्सियस नेटवर्क ने हाल में अपनी बैलेंस शीट की खराब हालत को देखते हुए खुद को दिवालिया घोषित कर दिया है. एक्‍सचेंज ने केस फाइल कर कहा है कि उसके शेयरधारकों के हितों को देखते हुए दोबारा बिजनेस खड़ा करने के लिए समय दिया जाए. कंपनी के पास मौजूद डिजिटल एसेट अभी तेजी से बढ़ रहा है. लिहाजा आने वाले समय में यह फिर से सामान्‍य कारोबार कर सकेगी.

13 जुलाई, 2022 तक सेल्सियस पर कुल 5.5 अरब डॉलर का बकाया था, जबकि कंपनी के पास कुल 4.31 अरब डॉलर की संपत्ति थी. ऐसे में 1.19 अरब डॉलर का नुकसान दिख रहा है. सेल्सियस की तरह व्‍योगर डिजिटल ने भी दिवालिया प्रक्रिया शुरू कराई है. यह एक्‍सचेंज हालिया गिरावट की वजह से बरबाद हो गया है. एक और एक्‍सचेंज क्‍वाइनफ्लेक्‍स ने पिछले दिनों अपनी ट्रेडिंग रोकते हुए कहा था कि उसके एक निवेशक ने 4.7 करोड़ डॉलर का भुगतान नहीं किया है. अब कंपनी कानूनी रास्‍ते से 8.4 करोड़ डॉलर वसूलने की तैयारी में है.

जून के बाद से बाइनेंस, वॉल्‍ड, स्‍काईब्रिज कैपिटल जैसे कुछ और क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज ने अपनी ट्रेडिंग रोक दी है. यह घटना निवेशकों को उनकी गाढ़ी कमाई डूबने को लेकर खतरे का संकेत दे रही है. ऐसे में अगर ये एक्‍सचेंज दिवालिया हो जाते हैं तो निवेशकों के पैसों का क्‍या होगा.

क्‍या कहते हैं विशेषज्ञ
माईफंडबाजार के सीईओ और फाउंडर विनीत खांदरे का कहना है कि ऐसे किसी भी एसेट में निवेश करने वाले को रिटर्न की कोई क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं गारंटी नहीं होती है. अमेरिका स्थित क्रिप्‍टो एक्‍सचेंज क्‍वाइनबेस ने हाल में वहां के बाजार नियामक को एक दस्‍तावेज के जरिये बताया था कि क्रिप्‍टो एसेट किसी भी सरकार अथवा सरकारी एजेंसी द्वारा गारंटीड नहीं होता है. लिहाजा क्रिप्‍टो प्‍लेटफॉर्म पर होने वाले किसी भी नुकसान को लेकर निवेशकों को कोई आश्‍वासन नहीं दिया जा सकता है. एक्‍सचेंज के दिवालिया होने की स्थिति में निवेशकों को असुरक्षित कर्जदाता की श्रेणी में रखा जाएगा और एक्‍सचेंज के पास जो भी संपत्ति है, उसे दिवालिया प्रक्रिया के तहत निवेशकों को क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं बांटा जा सकता है.

टैरालिटी के सीईओ एवं डाइरेक्‍टर अभिजीत शुक्‍ला का कहना है कि क्रिप्‍टो एसेट को रेगुलेट करने के लिए कोई कानून नहीं है. लिहाजा एक्‍सचेंज के डूबने या दिवालिया होने पर निवेशकों को उनके पैसे मिलने की भी कोई गारंटी नहीं है. दिवालिया होने की स्थिति में एक्‍सचेंज के वॉलेट में मौजूद राशि को निवेशक अपनी संपत्ति बताकर दावा नहीं कर सकता है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

रेटिंग: 4.70
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 651
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *